Posts Tagged ‘नज्म’

वक्त रहता कभी एक सा नहीं है

वक्त रहता कभी एक सा नहीं है

यहाँ मोहोबत करना आसां नहीं है

उनकी यादो का साया है साथ मेरे

क्या हुआ जो सर पर आसमां नहीं है

पीकर अक्सर बेअसुल हो जातेहो तुम

पर जानती हूँ मै दिल तेरा शैतां नहीं है

खुदा की बख्स है चल रही है सांसेवरना जीने का मुझको अरमां नहीं है

मेरी बर्बादियो का तुम गम ना करो

इस दिल में अब कोई तूफान नहीं है