भूख का नज़रिया (कहानी)

images

मुझे सफ़र करना अच्छा नही लगता था मगर इस बार जब मयंक भइया…..माँ और पापा से मिलने दिल्ली से मेरठ आये तो मुझे भी अपने साथ दिल्ली चलने के लिए राजी कर लिया……वैसे तो दिल्ली से मेरठ की दूरी ज्यादा नहीं थी पर सफ़र मे मेरा जी मिचलाता है इस कारण ये तीन घंटे का सफ़र बहुत मुश्किल से कटा……..भइया पिछले नौ साल से दिल्ली मे रह रहे थे…वो हर दूसरे तीसरे महीने माँ पापा और हम भाई बहनों से मिलने आजाते थे…..इस बार बच्चो के एग्जाम की वजह से वो अकेले ही आये थे और मुझे इमोशनली ब्लैकमेल कर के साथ चलने को राजी कर लिया था "छोटी !बच्चे तुम्हे बहुत याद कर रहे है"….."अपनी बुआ से मिलने के लिया बेताब है"वगैरा वगैरा……

मै भी उन दिनों फ्री थी और घर मे बोर हो रही थी इस लिए जल्दी से तैयार हो गई…दिल्ली पहुचते पहुचते रात हो गई……पार्थ और परी मुझे यूँ अचानक सामने देख कर खुशी से चहकने लगे भाभी भी बहुत खुश हुई………दोनों बच्चे मेरे अगल बगल बैठे अपनी अपनी बात सुनाने लगे जैसे उनको मेरा ही इंतजार था

भाभी रात खाने कीं तैयारी करने मे लग गई….थोड़ी देर बाद भाभी मेरे पास आई और प्यार से बोली "चलो हमारी ना सही बच्चो की याद तुम्हे यहाँ खीच लाई "

"भाभी आप को तो पता है सफ़र मे मेरी क्या हालत होती है?"

"हाँ भई, तभी तो माँ कहती है की मै तो अपनी सुभी कि शादी अपने ही शहर मे करूंगी…..मेरी लाडो से सफ़र नही होता "

मै भाभी की बात पर मुस्कुराने लगी

"हाँ भई ,आज खाने का क्या प्रोग्राम है"तभी भइया नहा कर फ्रैश मूड मे कमरे मे आये

"खाना तैयार है मै लगाती हूँ"यह कह भाभी किचन मे आगई

भाभी ने खाने का अच्छा खासा अरेंजमेंट कर रखा था….."सुभी!अब बैठो भी खाना ठंडा हो रहा है"भाभी फ्रिज से कोल्ड ड्रिंक निकलते हुए बोली

"वाउ….चायनीज राईस मै चहकते हुए बोली "

"तुम्हे बहुत पसंद है न इस लिए ही बनाया है"भाभी बोली

अचानक मेरी नजर परी की तरफ गई जो राईस मे से सब्जियां निकाल निकाल कर दूसरी प्लेट में रख रही थी….भाभी ने भी परी को देखा

"ममा !मुझे चिकन पुलाव पसंद है ये वाले नही अच्छे लगते "

"अच्छा तुम ये मंचुरियन ले लो "भाभी ने परी की प्लेट मे मंचूरियन बाल्स डालते हुए कहा

"ममा! मिरिंडा भी दो "

"हाँ दे रही हूँ मेरी जान आप ये मंचूरियन तो खाओ"

मै चुप चाप अपनी प्लेट ले कर खाने लगी

"ममा! मझे नहीं खाना ये अच्छा नही है" परी को देख कर पार्थ ने भी अपना खाना आधा खाया छोड दिया और दोनों कोल्ड ड्रिंक्स पीने लगे हम सब खाना कहा कर टी वि देखने लाउंज मे आगये

भाभी बर्तन समेटने लगी तो मै उनके पास आगयी और उनकी मदद करने लगी

"भाभी खाना बहुत ही अच्छा था "मै बोली

"तुम्हारे भइया को तो मेरा बनाया कभी अच्छा ही नहीं लगता…शायद ही कभी तारीफ़ की हो " भाभी पार्थ और परी का बचा खाना डस्टबिन मे डालते हुए बोली

खाने की इस बेकद्री पर मै कुछ पल के लिए खामोश हो गई….मुझे हमारा बचपन याद आने लगा जब हम लोग खाने बैठते थे तो माँ हमे अन्न की कद्र करना सिखाती थी…….

माँ कहती थी "कि अन्न का एक भी दाना नही गिरना चाहिए नही तो अन्नपूर्णा देवी नाराज हो जाती है"

"पानी बर्बाद न करो, घर से बरकत चली जाती है"…..अगर दरवाजे पर कोई भिखारी आ जाता तो वो अपने हिस्से की रोटी भी उसे ही दे देती

"सुभी!तुम जाकर आराम कर लो "मुझे चुप देख भाभी बोली

"नहीं भाभी! लाइए मै थोड़े से बर्तन धो देती हूँ "मैने चौक कर कहा

"अरे नही…..सुबह परवीन आकर धो लेगी आखिर तनख्वाह किस बात की लेती है "भाभी मुझे रोकते हुए बोली

"अरे उसने तो कम छोड दिया था क्या फिर से आने लगी "मैंने पूछा

"और नहीं तो क्या….जब घर मे फाकें शुरू हो गए तो दिमाग ठिकाने पर आगया, और फौरन काम पर वापस आगई ‘भाभी बोली

"हाँ,पर वो कम बहुत साफ सुथरा करती है" मै बोली

"हाँ काम तो अच्छा करती है पर है पक्की फ्राड जब आती है तो दुखड़े सुनाने लगती है….कभी दूध नही तो कभी आटा खत्म होता है उसके घर मे…..कभी बच्चे भूखे होते है तो कभी वो खुद भूखी होती है ये लोग अपनी मक्कारी से बाज नही आते……मै तो महीने भर का सौदा भी उससे छुपा कर रखती हूँ "भाभी बोली

कुछ देर पहले भाभी ने पार्थ और परी के छोड़े हुए खाने को जिस तरह डस्टबिन के हवाले किया था….मुझे वो खाना किसी मजबूर,लाचार और गरीब की आह जैसा लगा जो किसी के पेट के बजाए डस्टबिन मे जा रहा था

अगले दिन सुबह जब मै उठी तो भाभी बच्चो जल्दी जल्दी नाश्ता कराने के साथ साथ लंच बाक्स तैयार कर रही थी

"गुड़ मोर्निग भाभीअन्न का अनादर "मै मुस्कुराते हुए बोली

"गुड़ मोर्निग…नींद तो ठीक से आई "भाभी बोली

"जी भाभी"मैंने मुस्कुरा कर कहा

भाभी ने बच्चो का लंच तैयार कर के उन के बैग मे रख दिया "बेटा जल्दी से नाशता खत्म करो तुम्हारी बस आने वाली है "भाभी बोली

परी दूध पी रही थी और पार्थ देसी घी से बने परांठे टुकड़े टुकड़े कर के कहा रहा था

"पार्थ तुमने फरमाइश कर के ये परांठे बनवाये थे अब नही खाया जा रहा"भाभी बोली

"ममा आप अच्छे परांठे नही बनती….दादी कितने अच्छा बनती है "पार्थ की चलाकी पर मै और भाभी मुस्कुरा दिए

तभी बस आगयी और बच्चे स्कुल चले गए मै और भाभी नाश्ता करने लगे जैसे ही हम नाश्ता कर के उठे परवीन भी आगयी

"क्या हाल है परवीन "मैंने कहा

"बीबी इस महगाई मे हम गरीबो का क्या हाल होना है,… इनकी तीन हजार की नौकरी थी फैक्ट्री में… लोहे का बुरादा फांकते फांकते ये हालत हो गयी कि दो महीने से चारपाई पकड़ी हुई है …. हमे तो एक वक्त की सूखी रोटी भी मिलजाए तो गनीमत है"

उसकी इस बात पर कोई तसल्ली, कोई दिलासा मेरे मुँह से नहीं निकला….सच के बहते धारे पर झूठ का पुल बांधना कब आसान होता है ?

"पीनू ! तेरे दुखड़े तो कयामत तक खत्म नहीं होंगे जल्दी से काम खत्म कर ले नहीं तो लाईट चली जायगी……जल्दी से बर्तन झाड़ू कर के मशीन लगा कर कपड़े भी धो ले मौसम भी खराब हो रहा है "भाभी बोली

"बीबी आप फ़िक्र ना करे अभी सब निपटा देती हूँ……बीबी अगर आप की इजाजत हो तो अपने लिए एक रोटी सेंक लूँ, कल रात से कुछ नहीं खाया…..खाली पेट बच्चे को दूध पिलाकर आई हूँ…..अब तो भूख से बुरा हाल है "उसने लाचारी से कहा

"बाते बनाना तो कोई तुमसे सीखे ख़ैर पका ले रोटी पर घी तेल मत छूना आज कल ना तो आटा सस्ता है ना ही घी तेल ये इतनी मेहनत करते है तब खर्चे पूरे होते है "ये कहते हुए भाभी बाहर निकल गई

मेरी नजरो मे कुछ देर पहले का मंजर घूम गया जब भाभी ने पार्थ के छोड़े परांठे को डस्टबिन के हवाले किया था…..क्या परवीन की रोटी उस परांठे पर इतनी भरी थी? कि मंहगाई के इतने रोने रो दिए गए थे मेरे होंठ खामोश थे पर मेरा जमीर मुझे झंझोड रहा था मेरा दिल अंदर से रो रहा था कैसे हम आज अन्न का अनादर कर रहे है……….मेरी नजरे बेहरकत परवीन पर जमी हुई थी जो रुखी सूखी रोटी पर अचार कि एक फांक रख कर खाने के बाद ऊपरवाले का शुक्र अदा कर रखी थी….

Advertisements

2 responses to this post.

  1. कैसे हम आज अन्न का अनादर कर रहे है……….मेरी नजरे बेहरकत परवीन पर जमी हुई थी जो रुखी सूखी रोटी पर अचार कि एक फांक रख कर खाने के बाद ऊपरवाले का शुक्र अदा कर रखी थी…
    बिल्‍कुल दिल से लिखी गयी रचना !!

    प्रतिक्रिया

  2. कहानी बहुत से विषयों को ही नहीं वरन सामाजिक परिवेश और रहन सहन में हो रहे सभी बदलावों को गंभीरता से उजागर करती है. पढ़ते हुए सोचता हूँ तो अच्छा लगता है कि आपने कुशलता से अपना संदेश भी दे दिया है. बधाई.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: